VIDEO: ये शॉर्ट फिल्म घर-घर होने वाली हिं’सा का वो चेहरा दिखाती है, जिसको लेकर लोग बात नहीं करते

फायर और बवंडर जैसी फिल्में कर चुकी एक्ट्रेस नंदिता दास की एक शॉर्ट फिल्म इन दिनों यूट्यूब पर खूब सुर्खियां बटोर रही हैं. यूट्यूब पर रिलीज हुई यह शॉर्ट फिल्म काफी चर्चा में है. इस शॉर्ट फिल्म का नाम लिसन टू हर यानी उसकी सुनो है. यह फिल्म घरेलू हिं#सा पर आधारित है. लेकिन इसमें एक खास बात है जो इसे बाकि फिल्मों से हटकर एक अलग पहचान देती है. इस फिल्म में घरेलू हिं#सा के कई चेहरे दिखाए गए हैं.

इस शोर्ट फिल्म में नंदिता का रोल एक कामकाजी महिला का दिखाया गया है. वह घर में बैठी मी’टिंग कर रही है लेकिन बीच बीच में उसका बच्चा और पति उसे परेशान करते हैं. पति भी ऑफिस में काम निपटता रहा है ऐसा दिखाया गया है.

लेकिन वह बार बार नंदिता को कुछ ना कुछ काम करने के लिए कहता रहता हैं. जैसे कभी कॉफी बनाने के लिए तो कभी दरवाज़ा खोलने के लिए कहता रहता है और वह इन सभी कामों को भी साथ में निपटाती जा रही हैं. ऑफिस के काम के बीच अपने बच्चे को देखना और पति की डि’मां’ड्स पूरी करती हुई वह काम में लगी रहती हैं.

इसी बीच उन्हें एक फोन आता है. फोन पर एक महिला सिहरती हुई आवाज में किसी एनजीओ के बारे में जानने की कोशिश करती है. नंदिता रॉ’न्ग नंबर बता कर फोन फोन का’ट देती हैं. लेकिन फोन वापस आता है और इस बार उस तरफ से आई आवाज़ नंदिता को कंपाकर रख देती है.

फिल्म में घरेलू हिं#सा का वह डरा देने वाला रूप दिखाया गया है जो अक्सर हमें खबरों में पढ़ने या देखने मिलता है. लेकिन इसके आलावा एक हिं#सा और है जो चुपचाप झेली जाती है और इस बार कोई बात भी नहीं करता हैं. वहीं हिं’सा जो फिल्म में नंदिता के किरदार पर हर समय हो रही हैं.

नंदिता पुलिस को फोन लगाकर बताती कि उस महिला के साथ क्या हुआ. लेकिन उसे वहां से भी टका सा जवाब आता है. हर पल चीखता और उस पर हुक्म चलता पति बै’कग्रा’उंड में होने के बाद भी कितना पावरफुल है यह आप फिल्म देख कर ही समझ पाएगें. यह फिल्म बताती है कि हिं#सा सिर्फ शरीर नहीं झेलता है.

इसमें पुलिस का जो रवैया दिखाया गया है उसके लिए कुछ कहने की जरूरत नहीं है. आम तौर पर जब भी इस तरह की शिकायतें आती है तो अक्सर पुलिस भी आपसी समझौते पर जोर देती है. इस फिल्म के अंत में नंदिता का किरदार अपनी आवाज़ ढूंढने की कोशिश करता हुआ दिखाया गया है. बता दें कि इससे पहले नंदिता साल 2018 में फिल्म मं’टो को डायरेक्ट भी कर चुकी है.

वहीँ भारत में घरेलू हिं#सा की बात की जाए तो नेशनल कमीशन फॉर वीमेन के अनुसार 23 मार्च से लेकर 16 अप्रैल के बीच कमीशन को मेल और व्हाटएप्प के जरिए करीब 239 शिकायतें मिली है. दरअसल लॉकडाउन के चलते इन मामलों में बढ़ोत्तरी हुई है. इस समय कई लोग अपने हिं#सक पार्टनर्स या परिवार के सदस्यों के साथ हर समय घरों में बंद रहने को मजबूर है. कमीशन के अनुसार यह मामले आम दिनों की तुलना में दोगुने हैं.