मुस्लिमों को सोसाइटी में घर नहीं देना भी नस्लवाद- पूर्व गेंदबाज इरफान पठान

दुनिया में इस समय नस्लवाद पर बहस छिड़ी हुई हैं खास तौर पर खेल की दुनिया से संबंध रखने वाले खिलाड़ी अपने साथ हुए न’स्लवादी व्यवहार पर अपनी बात रख रहे हैं. इसी बीच पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज इरफान पठान ने मंगलवार को कहा कि न’स्लवाद सिर्फ चमड़ी के रंग तक सीमित नहीं है, लोगों को धर्म के चलते भी नस्ली उत्पी’ड़न का सामना करना पड़ता है. बता दें कि क्रिकेट से जुड़े कई खिलाडी इस मुद्दे पर अपनी बात रख चुके हैं.

अब इरफ़ान पठान ने भी अपनी चुप्पी तोड़ते हुए अपने साथ हुए भेदभाव के बारे में खुल कर बात की. इरफ़ान पठान ने नस्लवाद के मुद्दे को लेकर एक ट्वीट किया. जिसमें उन्होंने इशारों ही इशारों में कहा कि समाज में मुस्लिम समुदाय के लोगों को घर ना देना भी एक तरह का नस्ल’वाद ही हैं.

पूर्व गेंदबाज इरफान ने लिखा कि न’स्लवाद सिर्फ आपकी त्वचा के रंग तक सीमित नहीं है. अगर आपका विश्वास अलग है और उसके चलते सोसाइटी में घर नहीं मिलना भी एक नस्लवाद ही हैं.

जब पठान से उनके ट्वीट के बारे में बात की गई और उनके पूछा गया कि क्या यह उनका निजी अनुभव है या उन्होंने ऐसा महसूस किया है. इस बार उन्होंने भाषा से बात करते हुए कहा कि ऐसा मुझे लगता है और मुझे लगता है कि इससे कोई भी इंकार नहीं कर सकता हैं.

इससे पहले इरफान पठान ने सोमवार को भी न’स्लवाद को लेकर टिप्पणी की थी. उन्होंने कहा था कि वो नहीं जानते कि डैरेन सैमी के साथ नस्लवाद कब हुआ लेकिन ऐसा घरेलू क्रिकेट में भी होता हैं.

इरफ़ान पठान ने कहा कि साल 2014 की बात है मैं हैदराबाद की टीम में सैमी के साथ कैंप का हिस्सा था. मुझे नहीं लगता है कि ऐसा सच में हुआ हो. लेकिन मुझे उनके साथ हुई घटना की जानकारी नहीं है क्योंकि इसकी बड़े पैमाने पर चर्चा नहीं की गई होगी.

इसके साथ ही इरफान पठान ने कहा था कि अक्सर ही घरेलू क्रिकेट में दक्षिण भारतीय क्रिकेटरों को उत्तर और पश्चिमी क्षेत्रों में खेलने के दौरान नस्लीय टिप्पणी का सामना करना पड़ता है.

आपको बता दें कि अमेरिका में फ्लॉयड की ह’त्या के बाद नस्लवाद पर बहस छिड़ गई हैं. जिसमें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों भी खेल में हुए नस्लवाद के मामले पर अपना पक्ष रखा रहे हैं.

इसी कड़ी में वेस्टइंडीज के क्रिस गेल और डेरैन सैमी ने भी नस्ल’वाद पर अपना पक्ष रखा हैं. सैमी ने आरोप लगाया है कि साल 2014 आईपीएल के दौरान सनराइजर्स हैदराबाद टीम के कुछ साथियों द्वारा उन पर नस्लीय टिप्पणी की थी.

साभार- एनडीटीवी स्पोर्ट्स