सोनिया गांधी की सलाह का देश भर में स्वागत, मीडिया के विरोध में उतरी पब्लिक

कोरोना वायरस की म’हामा’री से बचने के लिए देश में लॉकडाउन चल रहा है. समाज के हर वर्ग के लोगों की आर्थिक स्थिति इन दिनों डगमगा चुकी है. कोरोना से लड़ने के लिए देश को पैसों की काफी जरुरत है. ऐसी स्थिति में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह दिया है कि चूंकि सरकारी खजाने का भारी भरकम पैसा मीडिया को विज्ञापन देने में खर्च होता है.

ऐसे में अगले दो सालों के लिए मीडिया को दिया जाने वाला विज्ञापन बंद कर देना चाहिए और इस पैसे को कोरोना के वि’रु’द्ध सं’घर्ष में लगाना चाहिए. सोनिया गांधी के इस सुझाव पर देश भर के मीडियाकर्मियों को मिरची लग गई. अलग अलग मीडिया संगठन सोनिया गांधी के इस सुझाव की निं’दा कर रहे हैं. हालांकि इसी बहाने भारतीय मीडिया का चरित्र भी सामने आ गया.

पत्रकार हो रहे ट्रोल

देश के लोग चाहे किसी भी हाल में रहें, मरें या जियें, मीडिया को तो सिर्फ विज्ञापन के पैसे से मतलब है. सोनिया गांधी के इस सुझाव का मीडिया भले ही विरोध कर रहा हो लेकिन देश की जनता स्वागत कर रही है.

सोनिया गांधी के इस विज्ञापन बंद करने वाले सुझाव का देश की जनता समर्थन कर रही है. सोशल मीडिया पर कोई भी पत्रकार अगर इसके खिलाफ बोल रहा है तो जनता तुरंत सोनिया गांधी के समर्थन में आ जा रही है.

दिलचस्प है कि इसमें हर पार्टी के समर्थक शामिल हैं. अब यकीन ना हो तो एबीपी न्यूज के वरिष्ठ पत्रकार पंकज झा के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल को ही देख लिजिए. पंकज ने लिखा था कि सोनिया गांधी को ये विज्ञापन बंद करने का आइडिया किसने दिया, कांग्रेस के कुछ नेता उसे बेसब्री से खोज रहे हैं, जिनके कहने पर सोनिया गांधी ने मीडिया को मिलने वाले सरकारी विज्ञापन को 02 साल के लिए बंद करने की सलाह दी है.

सोनिया गांधी का समर्थन

इस पर जनता ने पंकज को आड़े हाथों ले लिया. शिवाकर दीक्षित ने कहा कि आइडिया किसी का भी हो पर अच्छा है. अरुणोदय विश्वकर्मा ने लिखा कि सोनिया गांधी ने जब से ये सलाह दी है कि मीडिया वायरस का विज्ञापन रोक दिया जाए, तब से सन्नाटा छाया हुआ है.

अमित विश्वकर्मा ने कहा कि भले ही देश को कटोरा लेकर भीख मांगना पड़ जाए लेकिन मीडिया का विज्ञापन बंद नहीं होना चाहिए. वहीं कमलेश पाठक ने मीडिया को आड़े हाथों लेते हुए लिखा है कि संकट के इस दौर में मीडिया भी अपना योगदान दे और आगे बढ़कर कहे कि हम सरकारी विज्ञापन फ्री में दिखाएंगे.

Leave a Comment