हिन्दुस्तान में रहने वाले 20 करोड़ मुसलमानों और इस्लामिक देशों को लेकर सुधीर चौधरी ये क्या बोल गए?

सुधीर चौधरी ने कहा है कि भारत में 20 करोड़ मुसलमान हैं, इसके बावजूद भी हमारा भारत इस्लामिक देशों का बड़ा नेता क्यों नहीं बन पाया

दिल्ली: ज़ी न्यूज़ के न्यूज़ एंकर और देश के नामी पत्रकार सुधीर चौधरी अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं हाल ही में किसान आंदोलन पर उनकी की गई टिप्पणी खूब वायरल हुई थी जिसके बाद लोगों ने सुधीर चौधरी को लेकर तरह तरह की प्रतिक्रियाएं दी थीं.

यही नहीं सुधीर चौधरी किसान आंदोलन पर दी गई प्रतिक्रिया के बाद जमकर ट्रोल हुए थे लेकिन अब सुधीर चौधरी का एक और बयान चर्चा का विषय बन रहा है जिसमें सुधीर चौधरी काफी अहम मुद्दा उठाते हुए दिख रहे हैं.

Sudhir Chaudhri on Indian Muslim Population

क्या सुधीर चौधरी के इस विश्लेषण पर देश के मुसलमानों को गौर करना चाहिए?

बता दें सुधीर चौधरी डीएनए (DNA) शो करते हैं जिसमें वह देश में चल रहे तमाम मुद्दों का गहराई से विश्लेषण करते हैं। कई बार उनका यह विश्लेषण उन पर भारी भी पड़ता है तो कई बार तारीफ भी सुनने को मिलती है लेकिन अब सुधीर चौधरी ने डीएनए में अहम मुद्दा उठाया है.

सुधीर चौधरी ने अपने शो डीएनए (DNA) में एक सवाल उठाते हुए कहा कि 20 करोड़ की मुस्लिम आबादी होते हुए भी भारत इस्लामिक देशों का नेता क्यों नहीं है.

Muslim Population  In The World

बता दें कि सुधीर चौधरी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के स्थापना समारोह पर दिए गए प्रधानमंत्री के भाषण का विश्लेषण कर रहे थे इस दौरान उन्होंने यह मुद्दा उठाया. वहीं आपको यह भी बता दें कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में शामिल हुए.

देश में 56 साल बाद ऐसा हुआ जब कोई प्रधानमंत्री एएमयू (AMU) के शताब्दी समारोह में शामिल हुआ हो इससे पहले लाल बहादुर शास्त्री शताब्दी समारोह में शामिल हुए थे और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल तरीके से इस समारोह का हिस्सा बने.

दुनिया में सबसे ज़्यादा मुस्लिम आबादी इंडोनेशिया के बाद भारत की ही है

सुधीर चौधरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एएमयू शताब्दी समारोह के अवसर पर दिए गए भाषण का विश्लेषण कर रहे थे जिसमें उन्होंने कहा कि ‘ दुनिया में इंडोनेशिया के बाद भारत में सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी है तकरीबन 20 करोड। ऐसे में एएमयू जैसे संस्थानों को अब नई शुरुआत करने की जरूरत है.

अब उन्हें अपनी सॉफ्ट पावर का प्रयोग राष्ट्रहित में करना होगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि को चमकाने के लिए उन्हें इस सॉफ्ट पावर का प्रयोग करना होगा. अब हमें इसे पहचाने की सख्त जरूरत है’.

पत्रकार सुधीर चौधरी ने आगे कहा कि भारत अभी तक अपनी इस सॉफ्ट पावर की पहचान नहीं कर सका है इतनी संख्या में मुस्लिम आबादी होने पर होना यह चाहिए था कि इस्लामिक देशों के बीच भारत का कद और बड़ा होता और मजबूत होता.

यही नहीं अगर भारत अपनी इस सॉफ्ट पावर का इस्तेमाल करता तो इस्लामिक देशों के बीच अपनी बात मजबूती से रख पाता । लेकिन इस सबके बावजूद इन देशों के सामने भारत हमेशा बैकफुट पर दिखाई देता है जहां उसे स्टेक होल्डर होना चाहिए था वहां वह अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने में लगा रहता है।

सुधीर चौधरी बोले की ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉरपोरेशन जैसे संगठनों ने भारत पर आरोप लगाए हैं कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा कर भारत में मुस्लिमों का ख्याल नहीं रखा जा रहा है लेकिन यह एक नैरेटिव है जो पूरी दुनिया में फैलाया जा रहा है।

सुधीर चौधरी की अपने शो के दौरान की गई यह टिप्पणी काफी वायरल हो रही है जिस पर लोग जमकर कमैंट्स कर रहे हैं एक यूजर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाते हुए लिखा कि ‘अलग यूनिवर्सिटी क्यों? क्या वे कॉमन यूनिवर्सिटी में नहीं पढ़ सकते, मोदी भी नेहरू के रास्ते पर जा रहे हैं बहुत निराश हूं’.