बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट को लेकर मोदी के सामने भि'ड़े बीजेपी कार्यकर्ता, पुलिस ने सुरक्षित निकाला

बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट को लेकर मोदी के सामने भि’ड़े बीजेपी कार्यकर्ता, पुलिस ने सुरक्षित निकाला

बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनावों में अब एक महीने से कम का ही वक्त रह गया हैं. ऐसे में सभी नेता टिकट लेने के लिए अपना पूरा जोर लगा रहे हैं. ऐसे ही टिकट की आस में कुछ फरियादी रविवार को बीजेपी दफ्तर पहुंचे थे. लेकिन यहां टिकट के लिए बीजेपी नेता आपस में ही भिड़ गए. खास बात यह है कि इस दौरान पार्टी दफ्तर में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी भी मौजूद थे.

टिकट की मांग कर रहे लोगों ने सुशील कुमार मोदी को घेर लिया. बाद में मामला इतना बढ़ गया कि उन्हें वहां से बाहर निकालने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार लखीसराय से बड़ी तादात में लोग मंत्री विजय कुमार सिन्हा की शिकायत लेकर बीजेपी कार्यालय आए थे.

कार्यकर्ताओं की मांग थी कि इस बार मंत्री जी का टिकट काट दिया जाए और उनकी जगह पर लखीसराय से किसी नए चेहरे को बीजेपी के टिकट से चुनावी मैदान में उतारा जाए. पार्टी की रूटीन बैठक को पूरा करके जब डिप्टी सीएम वहां से जाने लगे तो लोगों ने उन्हें घेर लिया.

कार्यकर्ता उनकी गाड़ी के सामने खड़े हो गए और जमकर नारेबाजी करने लगे. मोदी ने कार्यकर्ताओं को समझने के खूब प्रयास किये लेकिन वो उन्होंने एक नही सुनी. इसी बीच लोग उनके बॉडीगार्ड से भी उलझने लगे.

मौके पर मौजूद संगठन महामंत्री नागेन्द्रजी ने भी लोगों को समझने की खूब कोशिश की. लेकिन तब भी लोग नहीं माने और नारेबाजी करते रहे. इसी बीच दफ्तर में मौजूद भाजपा कार्यकर्ता भी मैदान में आ गए और इसके वो लोग आपस में भिड गए और जमकर मार’पीट होने लगे. कभी ह’ल्ला काटने के बाद पुलिस और नागेन्द्रजी ने उन्हें समझा-बुझाकर मामला शांत किया.

कुछ इसी तरह का टिकट वि’वाद कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में भी देखने को मिला. यहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच टिकट को लेकर जमकर हंगा’मा क’टा. जिसके चलते पार्टी की स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन अविनाश पांडेय को प्रदेश अध्यक्ष के कमरे में कैद होकर बचना पड़ा. इस दौरान कार्यकर्ताओं में जमकर धक्का-मुक्की हुई और एक-दूसरे के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गई.

साभार- जनसत्ता