लॉकडाउन के दौरान मदरसे के मुफ़्ती की ह’त्या, अधज’ला श’व यमुना नदी से हुआ बरामद इलाके में सनसनी

शामली: दुनिया भर में कोरोना कहर बरपा रहा कोरोना की चपेट में लाखों की संख्या में लोग आ गए हैं. जबकि इस म’हामा’री से म’रने वालों की संख्या भी लाखों में पहुंच गई है. भारत में भी इस म’हामा’री का खासा असर देखने को मिल रहा है, लेकिन भारत में इस वायरस से लड़ाई में अब धार्मिक मु’द्दा भी शामिल हो गया है. वजह दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात के लोगों के शामिल होना की।

दरअसल, अब खबर उत्तर प्रदेश के शामली से आ रही है जहां एक सप्ताह पूर्व संदिग्ध हालात में लापता हुए मदरसा संचालक का श’व बुधवार देर रात यमुना नदी से बरामद होने से स’नस’नी फ़ेल गई, शामली जनपद के कैराना में 16 अप्रैल को बाजार में सामान की खरीदारी करने निकले मदरसे के प्रबंधक बाइक सहित लापता हो गए थे।

इस दौरान परिजनों ने उन्हें काफी तलाश गया, लेकिन कोई अत पता नहीं चला. इसके बाद मुफ्ती के परिजनों ने कैराना कोतवाली में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। वही इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने मुफ्ती के मोबाइल फोन को सर्विलांस पर लगाकर उसकी तलाश कर रही थी, लेकिन उसके दोनों मोबाइल नंबर बंद आ रहे थे इसकी वजह से उनका कोई सुराग नहीं लग पा रहा था।

वही इस घटना को लेकर के जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना ताहिर हसन ने भी एसपी विनीत जयसवाल से मिलकर मुफ्ती को जल्द पता लगाने की गुहार लगाई थी इसके बाद एसपी ने जल्द ही कार्रवाई करते हुए घटना के खुलासे का आश्वासन दिया था।

अब इस घटना को लेकर पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. बता दें बृहस्पतिवार को एसपी विनीत जायसवाल ने बताया कि 21 अप्रैल को गांव मवी काकौर स्थित मदरसा के अध्यापक अब्दुल्लाह ने गुमशुदगी दर्ज कराई थी कि 16 अप्रैल को सुबह मदरसा संचालक 35 वर्षीय मुफ्ती सूफियान बाइक से कैराना गए थे. इसके बाद वापस नहीं लौटै।

अमर उजाला की खबर के अनुसार, जांच के लिए सीओ कैराना प्रदीप कुमार और कोतवाल यशपाल धामा के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित की गई सर्विलांस टीम को भी लगाया गया. बृहस्पतिवार सुबह मुफ्ती सूफियान के पिता हबीबुर्रहमान निवासी सहारनपुर ने तहरीर देकर मदरसे के चंदे के रुपये लूटने के लिए मदरसे में रहने वाले लोगों पर ह$त्या करने का शक जताया था।

जिसके बाद पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कराने वाले मदरसा अध्यापक अब्दुल्लाह निवासी कांधला, उसके बहनोई वाजिद निवासी ईदगाह कैराना और मदरसा अध्यापक तौसीफ निवासी गांव खुजनावर थाना फतेहपुर जिला सहारनपुर को हिरासत में लेकर कड़ी पूछताछ की गई।

आरोपियों ने खुलासा किया कि 15 अप्रैल की रात तीनों ने चंदे के रुपये लूटने के लिए मुफ्ती सूफियान को चाय में न’शी’ला पदा’र्थ मिलाकर पिलाया फिर ईं’ट से कु’चलकर ह#त्या कर दी और कमरे में ही पेट्रोल डालकर श’व को ज’ला दिया जिसके बाद अधजले शव को बोरे में लेकर मुफ्ती की बाइक से ही यमुना नदी में फेक दिया।

पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर गो’ताखो’रों की मदद से यमुना से अधजला श’व बरामद कर पो’स्ट’मा’र्ट’म को भेज दिया। इस मामले पर एसपी ने बताया कि तीनों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

Leave a Comment