इस बार चलेगी BJP की मर्जी? नीतीश कुमार के साथ शपथ नहीं लेंगे बिहार के ये 13 पूर्व मंत्री, जानिए वजह

सुशील मोदी के किनारे होने के बाद नीतीश कैबिनेट में कम हो सकते हैं JDU के मंत्री

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन के बाद जहां नीतीश कुमार की अगुआई में एनडीए गठबंधन ने सबसे बड़ी जीत है. जिसके साथ ही पटना से लेकर दिल्ली तक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में जश्न का माहौल है, अब वही एनडीए सरकार बनने के बाद भाजपा नेताओं ने गठबंधन में जोर बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नीतीश मंत्रिमंडल में मात्र 36 मंत्री हो सकते हैं।

JDU प्रमुख नीतीश कुमार आज शाम चार बजे 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे है। एनडीए विधायक दल की बैठक में नेता के तौर पर नीतीश कुमार के नाम पर मुहर लग चुकी है. और नीतीश कुमार ने राजभवन पहुंच सरकार बनाने का दावा भी पेश कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक आज शाम चार बजे राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह होगा।

bihar nitish kumar

आपको बता दें शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृहमंत्री अमित शाह शामिल होने के लिए पटना रवाना हो चुके हैं। अब यह कयास लगाए जाने लगे हैं कि नीतीश के साथ कौन-कौन मंत्री पद की शपथ लेगा। अगर विधायकों की संख्या के हिसाब से BJP कोटे से लगभग 20, वहीं JDU कोटे से CM समेत 14 मंत्री बनने का लगभग तय है। नीतीश कैबिनेट में VIP और हम कोटे से एक-एक मंत्री बनाए जाएंगे।

सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि इस बार नीतीश सरकार में पुराने मंत्रियों को कम से कम जगह दी जाएगी। इसकी एक वजह दोनों पार्टियों के बीच सीटों का फर्क भी पड़ेगा, क्योकि नीतीश की अगुआई वाले एनडीए गठबंधन में जहां भाजपा को 74 सीटें मिली हैं, तो वहीं जदयू 43 सीटें ही मिल पाई है।

बता दें पिछली नीतीश सरकार के एक दर्जन से भी ज्यादा मंत्री नहीं होंगे, क्योकि कपिल देव कामत (जदयू) और विनोद कुमार सिंह (बीजेपी) का नि’ध’न हो गया था। और वही इस चुनाव में दस मंत्री हार गए हैं. इन में जदयू के आठ और भाजपा के दो मंत्री शामिल हैं।

गौरतलब है की, तीन दशक से ज्यादा समय से बिहार बीजेपी के बड़े चेहरे के रूप में सुशील कुमार मोदी पहली बार राज्य सरकार में शामिल नहीं होंगे। रविवार को एनडीए विधानमंडल दल की बैठक के बाद उन्होंने ट्वीट कर खुद इसके संकेत दिए, सुशील मोदी उपमुख्यमंत्री पद से हटाये जाने के पार्टी नेतृत्व के फैसले से निराश भी दिखे।