दुनियाभर में वायरल हुई दहेज़ प्रथा के खिलाफ़ बनी ये वीडियो और फोटो, जानिए किसने और क्यों बनाया इसे

पाकिस्तान के डिजाइनर अली जीशान (Designer Ali Zeeshan) ने दहेज (Dowry) के मुद्दे पर लोगों का ध्यान खींचने के लिए एक फैशन शो में मॉडल के जरिए इस कहानी को दिखाया है. 

नई दिल्लीः दुनियां भर में वायरल हो रही पाकिस्तान की एक दुल्हन जो खूबसूरत लाल लिबास के साथ जेवर पहने देखी जा सकती है। दुल्हन एक घोडागाड़ी को खींचती दिखाई दे रही है। जिसके ऊपर घरेलू सामान के साथ एक दूल्हा बैठा है। आपको बता दें इस ठेलागाड़ी के ब्राइडल कलेक्शन को पिछले हफ्ते लाहौर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पेश किया गया था।

वही सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल होने के बाद इसको लेकर कई लोगों का गुस्सा भड़क उठा। उनका कहना था कि ये तस्वीर शादी के लिबास को डिजाइन करने वाले महंगे डिजाइनर की है। उसके जरिए दहेज जैसी कुरीति को खत्म करने का संदेश देना हास्यासपद है। वही एक यूजर ने अली जीशान को निशाना बनाते हुए लिखा, “दहेज को रोका जाता है लेकिन इस डिजाइनर से कीमती ड्रेस की खरीदारी को नहीं रोका जाता है।

दहेज के खिलाफ पाकिस्तान की तस्वीरों पर छिड़ा वि’वाद

दरअसल, सोशल मीडिया पर दहेज के खिलाफ जागरुकता फैलाने का दावा करने वाली यह तस्वीरें वि’वा’दों में घिर गई है। ट्वीटर पर जारी पोस्ट में दहेज के खिलाफ कई हैशटैग जैसे नुमाइश न लगाओ, दहेज की लालच बंद करो, दहेज खोरी बंद करो का इस्तेमाल किया गया है। युवाओं को दहेज के खिलाफ संकल्प लेने का आह्वान करते हुए पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा संख्या में शेयर करने को कहा गया है।

आपको बता दें यूनाइटेड नेशंस एंटिटी फॉर जेंडर इक्वैलिटी और महिला सशक्तिकरण पाकिस्तान ने दहेज के खिलाफ मशहूर डिजाइनर अली ज़ीशान (designer Ali Xeeshan’s) के फैशन अभियान को अपना समर्थन दिया है, लेकिन इस को लेकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग तरह की लोगों से राय मिल रही है।

समाचार एजेंसी डेली पाकिस्तान के अनुसार, डिजाइनर ज़ीशान का नया कलेक्शन ‘नुमाईश’ दहेज की सदियों पुरानी प्रथा की कड़वी हकीकत को उजागर करता है, और लोगों से इसके खिलाफ प्रतिज्ञा लेने की अपील करता है. इस संग्रह को ‘पैंटीन एचयूएम ब्राइडल कॉउचर वीक 2021 (Pantene HUM Bridal Couture Week 2021) में शोकेस किया गया और संयुक्त राष्ट्र महिला पाकिस्तान के सहयोग से विकसित किया गया है।

संगठन ने ऐसी तस्वीरों को शेयर करते हुए जिनका उद्देश्य दहेज के बोझ को उजागर करना है, ट्वीट किया, “यूएन महिला पाकिस्तान @ALIXEESHAN के ‘नुमाइश’ दहेज के खिलाफ प्रतिज्ञा का समर्थन करता है।

हलाकि बहुत से लोगों ने सहयोग और इसके पीछे के सामाजिक संदेश की सराहना की है, वहीं कुछ ने फैशन डिजाइनर की आलोचना करते हुए कहा, कि महंगे कपड़े बेचते हुए दहेज के खिलाफ उनके अभियान ने उनकी ओर से पाखंड के अलावा कुछ नहीं किया।

पुणे (महाराष्ट्र) की रहने वाली 'बुशरा त्यागी' पिछले 5 वर्षों से एक Freelancer न्यूज़ लेखक (Writer) के तौर पर कार्य कर रही हैं। 16 साल की उम्र से ही इन्होंने शायरी, कहानियाँ, कविताएँ और आर्टिकल लिखना शुरू कर दिया था।