कोरोना सं’कट के बीच कैसे मनेगी ईद-उल-अजहा, जारी की गई गाइडलाइन्स, अगर किया उलंघन तो…

देश में ईद-उल-अजहा करीब आ रही हैं. लेकिन देश भर में कोरोना वायरस का कहर फैला हुआ है जिसके चलते इस बार ईद मामने को लेकर कई तरह की सावधानियां बरती जाना जरुरी हो गई है. इसी बीच उत्तर प्रदेश पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वो घर में रह कर ही त्यौहार बनाया जाए और भीड़- इकट्ठा करने से परहेज किया जाए. इसके लिए पुलिस ने गाइडलाइन्स जारी की हैं. बता दें कि इससे पहले भी त्योहारों को लेकर स्पेशल गाइडलाइन्स जारी होती रही हैं.

इसे लेकर यूपी के डीजीपी ने एक पत्र लिखकर कई अपील की हैं. उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों से भी कहा है कि ईद के दौरान खास ध्यान दिया जाए. पुलिसकर्मी इस बात का ध्यान रखे कि कुर्बानी के सांय गौवंश की ह’त्या जैसे मामले सामने ना आए, क्योंकि इस तरह के मामलों से पहले भी सांप्रदायिक तनाव उत्त्पन हो चूका हैं.

पुलिस लाउडस्पीकर के जरिए सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करने के लिए लोगों को जागरूक करे और किसी भी तरह की फेक न्यूज़ सोशल मीडिया पर ना फ़ैल सके इस बात का ध्यान रखा जाए.

गाइडलाइन्स के अनुसार मिश्रित और बेहद संवेदनशील इलाकों में ड्रोन का उपयोग करके निगरानी की जाए. इसके साथ ही खुले इलाकों में कुर्बानी देने और गैर मुस्लिम जगहों पर खुले तौर पर मां’स ले जाना प्रतिबंधित किया गया हैं.

वहीं लखनऊ की मरकज़ी चांद कमेटी ने मंगलवार को बताया कि ईद-उल-अजहा का 1 अगस्त को मनाई जाएगी. इसके साथ ही मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कोरोना संक’ट को देखते हुए सरकार से ईद को लेकर गाइडलाइन्स देने की मांग की थी, साथ ही कुछ पाबंदियों को हटाने की मांग भी रखी गई थी.

लेकिन डीजीपी की तरफ़ से जारी गाइडलाइन्स पर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने नाराजगी जाहिर की हैं. उन्होंने कहा कि इसमें कुछ नया नहीं हैं. यह सभी अपीलें हम समुदाय से पहले ही कर चुके हैं. जहां तक सार्वजानिक जगह पर कुर्बानी करने से मना करने की बात हैं तो हम इस बात का पालन भी करेगें.

उनोने कहा कि इस बार घर में ही कुर्बानी की जाएगी. मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना ख़ालिद रशीद फ़िरंगीमहली ने कहा कि सरकार से मांग की गई थी कि बकरों की मंडी कम से कम एक हफ्ते के लिए खोल दी जाए ताकि लोगों को कुर्बानी के लिए जानवर खरीदने में परेशानी ना हो लेकिन सरकार ने अभी तक इस पर ध्यान नहीं दिया हैं.