दावा: भारतीय लोगों का निजी डेटा खतरे में, Truecaller बेच रहा है यूज़र्स का डाटा इतने रुपए में

ट्रूकॉलर (Truecaller) एक ऐसा एप्प है जो लगभग हर दुसरे भारतीय स्मार्टफोन यूजर के पास होता है. भारतीय यूजर ट्रूकॉलर का उपयोग अनजान नंबरों से आने वाले कॉल का पता करने, मैसगिंग एप्प के रुप में आते है. पिछले काफी समय से ट्रूकॉलर बैंकिंग से जुटी सुविधा के लिए भी उपयोग किया जा रहा हैं. लेकिन क्या ट्रूकॉलर का उपयोग यूजर के लिए सुरक्षित हैं? यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि क्योंकि ट्रूकॉलर पर मौजूद भारतीय यूजरों का डाटा अब सुरक्षित नजर नहीं आ रहा हैं.

दरअसल एक साइबर अपराधी ने एक सनसनीखेज दावा किया है. साइबर अपराधी ने 4.75 करोड़ भारतीयों के रिकॉर्ड को बिक्री के लिए मार्केट में पेश किये है. साइबर अपराधी का दावा है कि यह डाटा उसने ऑनलाइन डायरेक्टरी ट्रूकॉलर (Truecaller) से हासिल किया है. साइबर अपराधी ने इसे 75,000 रुपए में बेचने का ऑफर पेश किया है.

यह जानकारी ऑनलाइन इंटेलिजेंस कंपनी साइबल द्वारा दी गई हैं. वहीं ट्रूकॉलर के एक प्रवक्ता ने अपने डाटाबेस में किसी भी तरह की सेंध के आरोपों को खोखला करार दिया है.

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा है कि हमारी कंपनी के डाटाबेस में कोई सेंध नहीं हुई है. अपराधी अपने डाटाबेस को कंपनी का नाम इस्तेमाल करके बेचना जा रहा हैं ताकि उसका डाटा विश्वनीय लगे.

वहीं साइबर कंपनी साइबल ने अपने ब्लॉग में लिखा कि एक नामी विक्रता की पहचान हमारे शोधकर्ताओं द्वारा की गई है.

इसके द्वारा 4.75 करोड़ भारतीय के ट्रूकॉलर डाटा को 1,000 डॉलर यानि की करीब 75,000 रुपए में बेचने की पेशकश की गई है. यह डाटा 2019 का बताया गया है.

कंपनी ने आगे लिखा है कि इतने बड़े डाटा के लिए इतनी कम कीमत की मांग देखकर हमें काफी हैरानी हुई हैं. बिक्री के लिए जिन रिकॉर्ड को रखा गया है उसमें फोन नंबर, महिला या पुरुष इसकी जानकारी, उनके शहर का नाम, मोबाइल नेटवर्क और फेसबुक आईडी का पूरा ब्योरा दिया गया है ऐसा दावा किया जा रहा है.

साइबल के अनुसार हमारे शोधकर्ता अपने विश्लेषण पर आगे शोध करने में जुटे हुए है. लेकिन अभी निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता है कि यह डेटाबेस किस पैमाने तक भारतीय को प्रभावित कर सकता हैं.

साइबल ने कहा है कि इस मामले पर हम नजर रखे हुए है और जानकारी मिलने पर अगले ब्लॉग में बताया जाएगा.

वहीं ट्रूकॉलर के प्रवक्ता ने अपने डाटाबेस में किसी भी तरह की सेंध लगने से इनकार किया है. प्रवक्ता ने कहा कि हमारी सभी सूचनाएं सुरक्षित हैं.

हम लोग अपने प्रयोगकर्ताओं की निजता को का काफी ध्यान रखते है और लगातार संदिग्ध गतिविधियों पर निगरानी बनाए रखते है.