अर्दोआन की बड़ी घोषणा, तुर्की को मिला 320 अरब क्‍यूबिक मीटर प्राकृतिक गैस के भंडार, रूस की बड़ी टेंशन

तुर्की और ग्रीस में चल रहे भारी तनाव के बीच शुक्रवार को तुर्की के राष्‍ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगान ने एक बड़ा ऐलान किया हैं. एर्दोगान ने बताया है कि तुर्की को ब्लैक सी (काला सागर) के तट के पास में 320 अरब क्‍यूबिक मीटर प्राकृतिक गैस के भंडार मिले हैं. उन्‍होंने कहा कि काला सागर में तुर्की को अब तक के सबसे बड़े गैस भंडार मिले हैं. राष्‍ट्रपति ने कहा कि साल 2023 से इस प्राकृतिक गैस का उत्‍पादन शुरू होने का अनुमान हैं. हालांकि तुर्की को मिले गैस के यह भंडार पहले तुर्की द्वारा लगाए गए अनुमान से बहुत कम हैं.

लेकिन तुर्की को काला सागर में मिलें यह गैस भंडार के देश को गैस के लिए विदेशी निर्भरता को काफी कम कर देंगे. काला सागर में इन गैस भंडार का पता तुर्की के ड्रिलिंग शिप फेथ ने लगाया हैं.

एर्दोगान ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि भूमध्‍य सागर से भी जल्द ही इस तरह की और ज्‍यादा अच्‍छी खबर देखने को मिल सकती हैं. हम वहां पर अपनी गतिविधियों को लगातार तेजी से कर रहे हैं, साथ ही खुदाई का काम भी जारी हैं. हालांकि अभी अरबों डॉलर का निवेश इस गैस को निकालने में करना होगा.

वहीं तुर्की का ड्रिलिंग शिप फेथ खुदाई में जुलाई से ही लगा हुआ था. इसे टूना-1 नाम दिया गया है. तुर्की के तट से 100 नॉटिकल मील दुरी पर काला सागर में यह भंडार खोजे गए हैं.

तुर्की के ऊर्जा मंत्री फेथ डोनमेज ने कहा कि इस गैस की यह खोज में सफलता नौंवी बार खुदाई के बाद हासिल हुई हैं. उन्‍होंने कहा कि वैज्ञानिक डेटा से यह जानकरी जुटा रहे हैं कि इस तरह के भंडार की दो और परत नीचे है. फ़िलहाल हम 3500 मीटर की गहराई में हैं और दूसरे महत्‍वपूर्ण रिजर्व को काटा है.

तुर्की राष्‍ट्रपति भले ही कई तरह के दावें कर रहे हो लेकिन व‍िशेषज्ञों का कहना है कि तुर्की को उम्मीद से बेहद ही कम गैस मिली है. इससे पहले तुर्की ने दावा किया था कि उन्हें अगले दो दशक तक उपयोग कर सके इतनी गैस मिल गई है, जबकि इससे बड़ा गैस भंडार तो मिस्र को मिला है.