बा’बरी मस्जिद थी, है और रहेगी, AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी को ट्वीट करना पड़ा भा’री…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन करने जा रहे हैं. भूमिपूजन से पहले सुबह सुबह AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक ट्वीट किया हैं. लेकिन अपने इस ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया पर ओवैसी को ट्रो’ल्स का शि’कार होना पड़ा है. इतना ही नहीं कई लोगों ने उन्हें ट्रो’ल करते हुए आ’प’त्ति जन’क बातें भी लिखी. दरअसल ओवैसी ने राम मंदिर भूमि की वि’वा’दित जमी’न को मस्जिद बताया था.

लेकिन कई लोगों को उनका ट्वीट रास नहीं आया और वो ओवैसी को ट्रोल करने लगे. ओवैसी ने अपने ट्वीट में लिखा था कि बाबरी मस्जिद थी और रहेगी. इशांअल्लाह. इसके साथ ही उन्होंने बाबरी मस्जिद और बा’बरी मस्जिद के वि’ध्वं’स की एक एक तस्वीर भी पोस्ट की हैं.

इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में बाबरी जिं’दा हैं हैग टैग का उपयोग किया. वहीं असदुद्दीव ओवैसी के इस ट्वीट पर सिर्फ चंद लोग ही उनके समर्थन में नजर आए तो वहीं बड़ी ता’दात में यूजर्स उन्हें ट्रोल करने लगे.

ट्रोल करने वाले यूजर लिखने लगे कि अब अपना सिर पी’ट’ने से क्या होगा. वहीं कई लोगों ने ओवैसी के ट्वीट के बाद उन पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अ’व मा न’ना का आरोप लगाया है.

ऐसे यूजर्स लिखते है कि आप भारतीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का सम्मान नहीं कर रहे हैं. इस से यह साबित होता है कि आपके खू#न और धर्म में दूसरे लोगों के हक पर ज’ब रद’स्ती दावा करना और अनादर करना समाया हुआ है. यही काम आपके बाबर द्वारा किये गए थे.

वहीं कुछ यूजर्स असदुद्दीन ओवैसी पर निजी ह’मला भी करने लगे. ऐसे लोगों ने लिखा कि आपके पूर्वज हिंदू थे, हैं और हमेशा रहेंगे. वहीं कई यूजर्स ने तो ऐसे कमेंट किए जिसके बारे में यहां बताया भी नहीं आ सकता हैं.

वहीं इससे पहले ओवैसी ने पीएम मोदी के मंदिर के शि’ला न्या’स में जाने पर भी सवाल उठाते हुए इसे सं’विधान की शपथ का उल्लंघन बताया था. उन्होंने कहा था कि पं’थ’नि रपे’क्षता भारत के संविधान का अ’भि’न्न अं’ग है और पीएम मोदी का मंदिर के भूमि पूजन में जा’ना उसका अनादर होगा.

साभार- जनसत्ता