बर्ड फ्लू के खौफ के बीच केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दी सलाह.. कहा- अंडों, मांस को अच्छी तरह पकाकर खाएं

देश में बर्ड फ्लू के बीच केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह का अजीबोगरीब बयान कहा- घबराने की कोई बात नहीं है, मीट और अंडे को अच्छी तरह से पका कर खाएं

कोरोना महा’मा’री के बीच ही भारत में एक और महा’मा’री ने दस्तक दी है जिसके बाद चिंता औए बढ़ गई है। बता दें कि इन दिनों भारत के कई राज्यों में बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है जिससे कि सैकड़ों पक्षियों की जा’न जा रही है। अभी एक महामारी से दुनिया पूरी तरह बाहर निकल भी नहीं पाई कि दूसरी महामारी ने लोगों के बीच में फिर से ड’र पैदा कर दिया है।

बता दें देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू फैल चुका है। मध्यप्रदेश के मंदसौर में 100 तो इंदौर में 142 पक्षी जा’न चली गई हैं। अकेले केरल में ही 1700 से ज्यादा बतखों की मौ#त हो गई है. जिसके बाद केरल सरकार ने इसे राजकीय आपदा घोषित किया है।

bird flu

इसके अलावा राजस्थान, मध्यप्रदेश, हिमाचल, हरियाणा में भी लगातार पक्षियों की जा#न जा रही है जिसके बाद राज्य की सरकारों ने हाई अलर्ट घोषित किया है. वही हरियाणा के पंचकुला जिले में हाल ही में 2 लाख से ज्यादा मुर्गियों की मौ#त हो गई थी जिसके बाद हरियाणा सरकार ने मुर्गियों और अंडों की बिक्री पर रोक लगा दी है।

बता दें कि पक्षियों में एवियन इंफ्लूएंजा वायरस मिलने की वजह से उनकी जा#न जा रही है। लेकिन इस सबके बीच ही केंद्रीय मंत्री पशुपालन और डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह का एक अजीबोगरीब बयान सामने आया है। उन्होंने हाल ही में अपने बयान में कहा कि बर्ड फ्लू की वजह से ज्यादातर प्रवासी पक्षियों की मौ#त की रिपोर्ट आई है।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा इससे घबराने की कोई बात नहीं है मीट और अंडे को पूरी तरह से पका कर खाएं। उन्होंने आगे कहा कि राज्यों को सतर्क कर उनकी पूरी मदद की जा रही है।

वहीं पशुपालन एवं डेयरी विभाग के अधिकारियों के अनुसार अभी तक राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और केरल में बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं। जिसके बाद 1 जनवरी के दिन राजस्थान और मध्यप्रदेश को परामर्श जारी किए गए हैं। ताकि संक्रमण के प्रसार को जल्द से जल्द रोका जा सके।

इसके साथ ही आगे हिमाचल प्रदेश को भी 5 जनवरी को पोल्ट्री फार्म में बीमारी आगे बढ़ने से रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। जिससे कि इस महा’मा’री को जल्द से जल्द बड़े स्तर पर संक्रमण फैलने से रोका जा सके।