हाथरस: यूपी पुलिस की मौजूदगी में ठाकुर समाज के लोगों ने पीड़िता के घर में घुसकर धमकाया? वीडियो वायरल

हाथरस: यूपी पुलिस की मौजूदगी में ठाकुर समाज के लोगों ने पीड़िता के घर में घुसकर धमकाया? वीडियो वायरल

हाथरस के जिस गांव में दलित लड़की के साथ कथित सामूहिक दु’ष्क’र्म की घटना हुई हैं, रविवार को वहां पर एक बैठक बुलाई गई थी. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह बैठक तथाकथित ऊंची जातियों के लोगों द्वारा हाथरस मामले में गिरफ्तार किये गए आरोपियों के समर्थन किया गया है. बताया जा रहा है कि इस दौरान इस बैठक में एक आरोपी का परिवार भी शामिल हुआ था. सूत्रों के अनुसार बीजेपी नेता राजवीर सिंह पहलवान के घर पर यह बैठक बालाई गई.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हाथरस के चंदपा गाँव के करीब गांव में आरोपियों के समर्थन में ठकुर ब्राह्मण समुदाय के 400 के आसपास लोग पंचायत में शमिल हुए है. ऐसे में सवाल उठ रहे है कि इतनी बड़ी तादात में लोग पंचायत कर रहे है तो क्या अब कोरोना का खत’रा नहीं हैं?

पुलिस प्रशासन को भी इस तरह की महापंचायत करने से कोई आपत्ति नही है लेकिन दूसरी तरह सामाजिक कार्यकर्ता और वकील भी अगर पीड़ि’त परिवार से मिलना चाहे तो सरकार और पुलिस पर उस पर आपत्ति होती है, कोरोना का डर सता’ने लगता है?

आखिर इस दोहरे पैमानों का क्या कारण हैं? कोई बताने वाला नहीं है. कई राजनितिक पार्टियां और विपक्षी पीड़ि’त परिवार के साथ है उन्हें न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतर आए है.

वहीं दूसरी तरफ सरकार कमरे में बैठी अपने अधिकारियों को बयान बदलवाने और पी’ड़ित परिवार को धम’काने में और चल रही कार्यवाही को दबाने में व्यस्त है.

यहां एक तरफ युवती को न्याय दिलाने के लिए पूरा देश आवाज़ उठा रहा हैं, वहीं दूसरी तरफ आरोपियों को बचाने के लिए बैठक कराई जा रही है और वो भी एक बीजेपी नेता के घर पर.

इस मामले को लेकर बीजेपी नेता का कहना है कि ये स्वागत समारोह था. सीबीआई जांच के मामले का स्वागत करने के लिए यहां लोग आए हुए थे. हमने किसी को बुलाया नहीं था. आरोपी लवकुश की मां भी यहां आई हुई थी. सुबह CDO ने समझाने का प्रयास किया लेकिन इसके बावजूद भी बैठक कराई गई.

इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसके साथ दावा किया जा रहा है कि ठाकुर समाज के लोग यूपी पुलिस की मौजूदगी में बला’त्कार पी’ड़िता के दलित परिजनों को उन्हीं के घर में धमकाने पहुंचे है.

साभार- भास्कर