उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस में बड़ा बदलाव

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के चलते लगे लॉकडाउन के हटने के बाद विधानसभा की कई सीटों पर उपचुनाव होने वाले है. इसे लेकर सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी दल कांग्रेस में अभी से तैयारियां शुरू हो गई है. आगामी दिनों में राज्य में 24 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव आयोजित कराए जाने है जिसे लेकर दोनों प्रमुख पार्टियों में खींचतान तेज हो गई है.

इसी बीच कांग्रेस ने उपचुनावों को ध्यान में रखकर मध्य प्रदेश आलाकमान में बड़े बदलाव किये है. कांग्रेस जीत हासिल करने के लिए अपना जोर लगा रही है, किसी तरह की कोई कमी न रहे इसलिए कांग्रेस ने 11 जगहों पर नए जिला अध्यक्षों को नियुक्ति किया हैं. आपको बता दें कि इन 11 इलाकों में से 5 इलाके ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले हैं.

अपने 11 नए जिला अध्यक्षों की यह सूची कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल द्वारा जारी की गई. बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने सोनिया गांधी की मंजूरी के बाद मध्यप्रदेश में इन 11 जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की है.

कांग्रेस ने श्योपुर में अतुल चौहान, ग्वालियर ग्रामीण में अशोक सिंह, रतलाम सिटी में महेंद्र कटारिया, शिवपुरी में शिवप्रकाश शर्मा, विदिशा जिले में कमल सिलाकारी और सीहोर में बलबीर तोमर को जिला अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सोंपी हैं.

इसके अलावा सिंधिया का लोकसभा क्षेत्र रहे गुना सिटी में मानसिंह प्रसाद को नियुक्त किया गया है जबकि गुना ग्रामीण में यह जिम्मेदारी हरी विजयवर्गीया को दी गई है. इसी तरह होशंगाबाद में सतेंद्र फौजदार, सिंगरौली सिटी में अरविंद सिंह चंदेल और देवास ग्रामीण के जिला अध्यक्ष अशोक पटेल को बनाया गया हैं.

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने जिला अध्यक्षों की नियुक्ति का ऐलान करते हुए ट्वीट किया और सभी नव-नियुक्त जिला अध्यक्षों को बधाई दी. मध्यप्रदेश कांग्रेस ने लिस्ट को शेयर करते हुए लिखा कि मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के ज़िला, शहर एवं ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्षों की सूची जारी की जाती हैं.


साथ ही उन्होंने लिखा सभी नवनियुक्त पदाधिकारियों हार्दिक बधाई एवं उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ. आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में यह उपचुनाव 24 सीटों पर होने वाला है. इन 24 में से 23 सीटें सरकार गिरने से पहले कांग्रेस के पास थी.

इसमें से 22 सीटें ऐसी है जिनके प्रतिनिधि सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल हो गए है. कांग्रेस इन सीटों पर वापसी के लिए पूरा जोर लगा रही हैं. इसके लिए भोपाल से लेकर दिल्ली में बैठे कांग्रेस के बड़े बड़े नेता रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं.