योगीराज में माफिया के खिलाफ आवाज़ उठाना पड़ा मंहगा, रेत माफिया के खिलाफ खबर छापने पर एक पत्रकार की हुई ह’त्या

उत्तरप्रदेश में अपराधियों के हौसले दिन वां दिन बुलंद होते जा रहे है. सूबे में गुं’डा राज तेजी से बढ़ता जा रहा है. खासतौर पर पत्रकारों के साथ गुं’डाग’र्दी के मामलों में तेजी होती जा रही हैं. यूपी में गुं’डाराज के खिलाफ आवाज़ उठाना ही अप’राध बनता जा रहा है, जो भी पत्रकार अप’राध के खिलाफ आवाज़ उठता है और खबरें प्रकाशित करता है उसी के साथ अप’राध घटित हो जाता है. राज्य में अप’राध के मामले तेजी से बढ़ रहे है लेकिन यूपी की योगी सरकार मूक दर्शक बनी तमाशा देख रही है.

पिछले दिनों कुछ पत्रकारों ने कानपुर बालिका गृह कां’ड को उजागर किया था तो पुलिस ने उन्हें बंधक बना कर पी’टा. वहीं कानपुर स्थित एक अखबार के रिपोर्टर की उन्नाव जिले में 19 जून को ह’त्या कर दी गई. आरोपों के अनुसार पत्रकार की ह’त्या के पीछे इलाके में सक्रिय रेत माफिया और भू माफिया का हाथ बताया जा रहा हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह पत्रकार कानपुर से प्रकाशित होने वाले अखबार कंपू मेल में काम करते थे. न्यूजक्लिक की रिपोर्ट के मुताबिक पत्रकार शुभम मणि त्रिपाठी अपने दोस्त के साथ घर लौट रहे थे वो मोटरसाइकिल से जा रहे थे. इसी दौरान उन्नाव के गंगाघाट इलाके में अज्ञात लोगों ने उनकी गो’ली मा’र दी.

24 वर्षीय पत्रकार को तत्काल कानपुर के हॉस्पिटल में भर्ती किया गया लेकिन जहां उनकी मौ’त हो गई. 14 जून को त्रिपाठी ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर एक पोस्ट में लिखा कि चर्चित भू माफिया की जमीन का हाल ही में मैंने कवरेज किया था, प्रशासन द्वारा अवैध निर्माण ध्वस्त किया जा रहा था.

जिससे क्रोधित होकर भू माफिया के किसी व्यक्ति ने मेरे खिलाफ एक फ’र्जी आवेदन जिलाधिकारी को दिलवाई है. बहुत-बहुत धन्यवाद भूमाफिया का. सरकारी जमीन बेचते रहो और अगर कोई पत्रकार तुम्हारे खिलाफ खबर लगा दे तो उसके खिलाफ फर्जी मुकदमे लिखवाते रहो. भगवान तुम्हारा भला करे भूमाफिया.

द वायर हिंदी की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति जारी की है जिसके अनुसार तीन लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है और दो अन्य को तलाशने में पुलिस जुटी हुई हैं. पूछताछ के दौरान एक आरोपी ने बताया कि एक स्थानीय रियल एस्टेट कारोबारी दिव्य अवस्थी ने पत्रकार शुभम त्रिपाठी की रिपोर्ट और फेसबुक पोस्ट के जवाब में उनकी ह’त्या की साजिश रची थी.

साभार- द वायर हिंदी