वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपाई ने सरकार के दावे और किसानों की आय दोगुनी होने की जमीनी सच्चाई को कार्यक्रम में दिखाया था सच, लेकिन इस कार्यक्रम के बाद ……

वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपाई ने सरकार के दावे और किसानों की आय दोगुनी होने की जमीनी सच्चाई को कार्यक्रम में दिखाया था सच, लेकिन इस कार्यक्रम के बाद ……

बात उस समय की हैं जब वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपाई न्यूज़ चैनल एबीपी न्यूज़ में मास्टर स्ट्रोक शो करते थे, इस शो के दौरान वाजपई ग्राउंड रिपोर्ट के द्वारा जनता के सामने हकीकत रखते थे. लेकिन पहले तो यह समस्या आई कि बाजपाई का जो कार्यक्रम था वो लोगों तक साफ नहीं जा पा रहा था. जिसके चलते एबीपी न्यूज़ ने एक संदेश देते हुए बताया कि बाजपेई के के कार्यक्रम मास्टर स्टॉक के प्रसारण में कुछ त्रुटि आ रही है.

इसी के कुछ दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक कार्यक्रम के दौरान लोगों से संबोधन किया. इस दौरान पीएम मोदी ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिए एक महिला से बात की. जिसमें पीएम मोदी ने उस महिला (चंद्रमणि) से सवाल किया कि वर्तमान समय में आप की आय कितनी हो गई है. जिस पर महिला ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिए ही जवाब देते हुए कहा कि सर पहले से दुगनी हो गई.

इसके बाद हर तरफ चर्चा होने लगी कि पीएम मोदी के शासनकाल में किसानों की आय दोगुनी हो चुकी हैं. लेकिन किसान की यह आय दोगुनी किस तरह हुई, इसे लेकर वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेई ने अपने शो मास्टर स्ट्रोक में विस्तार से बात की और बीजेपी की सारी पोल खुल गई.

मास्टर स्टॉक में की गई ग्राउंड रिपोर्टिंग में सामने आया कि चंद्रमणि को पहले से ही कहा दिया गया था कि जब प्रधानमंत्री यह पूछे की आय कितनी हो गई है तो तब उन्हें इस सवाल का जवाब देते हुए कहना है कि पहले से दोगुनी हो गई है.

उस महिला ने एबीपी न्यूज के रिपोर्टर से बात करते हुए बताया कि कुछ लोग यहां आए थे और उन्होंने ही चंद्रमणि को बताया था कि आपको यह यह कहना है. जब पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की तब चंद्रमणि ने वही बातें कहीं थी जो लोगों ने उन्हें पहले ही बता दिया था.

लेकिन जब इसका खुलासा हुआ तो हर तरफ सनसनी मच गई और बीजेपी, पीएम मोदी की जमकर किरकिरी हुई. लेकिन इसकी कीमत बाजपेई को अपनी नौकरी से चुकानी पड़ी. उन्हें एबीपी न्यूज़ से इस्तीफा देना पड़ा.

अब हम आप से पूछते हैं कि अगर बाजपेई ने मास्टर स्ट्रोक के जरिए किसानों की आय दोगुनी होने के झूठे दावे की पोल नहीं खोली होती तो क्या यह झोल कभी सामने आ पाता? क्या गोदी मीडिया के चैनल हमें इसका सत्यापन बताते? आज फिर किसानों की आय दोगुनी करने की बातें कहीं जा रही हैं और पूरा गोदी मीडिया सरकार के साथ खड़ा हुआ नजर आ रहा है.

आज किसान सड़कों पर उतरने को मजबूर हो चूका हैं लेकिन इसके बाद भी गोदी मीडिया किसानों की बात उठाने को तैयार नहीं हैं. मीडिया सिर्फ फ़िल्मी मसलेदार खबरों के बीच भागने में लगा हुआ हैं.