VIDEO: करॉना वायरस को लेकर वायरल हो रहे चीन के पीएम की इस वीडियो की क्या है सच्चाई?

सोशल मीडिया साइट्स फेसबुक और ट्विटर के साथ ही वॉट्सऐप पर एक वीडियो इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि करॉना वायरस से जूझ रहे चीन के प्रधानमंत्री ने इस स्थिति से बचने के लिए मस्जिद में नमाज़ पढ़ी और दुआ मांगी। बता दें कि चीन अभी कोरोना वायरस के भयानक प्रकोप से पीड़ित है और अभी तक इसे रोकने के लिए की गई सारी कोशिशें भी नाकाम रही है।

तो ऐसे समय में एक वीडियो शेयर किया जा रहा है जिसमे चीन के प्रधानमंत्री (ली केकियांग) एक मस्जिद में कोरोना वायरस से बचने के लिए दुआ मांगते और नमाज पड़ते नजर आ रहे है। वीडियो के सोशल मीडिया पर आने के कुछ ही समय में यह वायरल हो गया और लोगों के इस पर अजीबोंगरीब कमेन्ट भी आने लगे।

गैरतलब है की यह वीडियो सोशल मीडिया पर अब तक 21000 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है। एक ट्विटर यूज़र स्येदा नसरीन @Syeda_Nasreen ने यह वीडियो शेयर किया है और इस अभी तक 8000 से ज्यादा व्यू हो चुके है।

वीडियो के वायरल के होने के बाद इसकी पडताल की गई तो यह वीडियो जूठा निकला, दरअसल यह वीडियो 2004 का है तब मलेशिया के तत्कालीन प्रधानमंत्री अब्दुल्ला अहमद बदावी अपनी 5 दिवसीय यात्रा के लिए चीन पहुंचे थे. और यह उनकी यात्रा का दूसरा दिन था उस दिन उन्होंने पेइचिंग के Nan Xia Po मस्जिद का दौरा किया और जुम्मे की नमाज़ पढ़ी।

 

यह मस्जिद चीन की सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है जिसे करीब 300 साल पहले चिंग राजवंश द्वारा बनवाया गया था। यहाँ से ये साफ़ होता है की चीन के प्रधानमंत्री के मस्जिद में जाकर नमाज पड़ने का दावा जूठा है। यह वीडियो 28 मई 2004 का है और इसे 2015 में AP Archive के वेरिफाइड हैंडल से 21 जुलाई, 2015 को अपलोड किया गया था।