जब आधा भारत भूखा है, ऐसे में नए संसद भवन का निर्माण क्यों हो रहा है?- कमल हासन

अभिनेता KamalHasan ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा, 'जब देश की आधी आबादी भूखी है, लोगों की जा'न जा रही है, ऐसे में नया संसद भवन क्यों?

चेन्नई, 13 दिसम्बर 2020: हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की नई संसद का भूमिपूजन किया है। जिसको लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर कई राजनीतिक पार्टियां लगातार निशाना साध रही हैं। जिसमे कांग्रेस, वाम दल और कई अन्य विपक्षी पार्टियों के प्रमुख नेता नए संसद भवन का भूमिपूजन का विरोध करते हुए शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए।

वही अब दक्षिण फिल्मों के सुपरस्टार कहे जाने वाले कमल हासन ने भी नए संसद भवन को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए उनसे सवाल किया है। दरअसल, 2021 में तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पार्टी ‘मक्कल नीधि मय्यम’ का चुनावी कैंपेन शुरू कर रहे कमल हासन ने केंद्र सरकार से सवाल पूछा है‌।

क्यों पड़ रही है नई संसद भवन की जरूरत?

PM NERANDR MODI

अभिनेता कमल हासन ने भी नए संसद भवन के भूमिपूजन को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जब कोरोना महामा’री के कारण भारत की अर्थव्यवस्था बुरे दौर से गुजर रही है तो इतने बड़े वित्तीय खर्च की क्या जरूरत है?

मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) प्रमुख कमल हासन ने ट्विटर कर लिखा, “जब चीन की महान दीवार का निर्माण किया जा रहा था तो हजारों लोगों की उसमें मौ#त हुई थी, उस समय शासकों ने कहा था कि यह लोगों की रक्षा के लिए है. अब कोरोना महामारी के कारण जब देश की आधी आबादी भूखी है, लोग अपना जीवन खो रहे हैं, तो किसकी रक्षा के लिए आप करोड़ों रुपये की संसद का निर्माण कर रहे हैं?

अभिनेता कमल हासन ने आगे लिखा मेरे माननीय निर्वाचित प्रधानमंत्री जवाब दें? आपको बता दें पीएम मोदी ने 10 दिसंबर को नए संसद भवन की शिलान्यास किया था. इस नए भवन का निर्माण करीब 64,500 वर्गमीटर जमीन पर होना है जिसमे करीब 971 करोड़ रुपये की लागत का खर्चा आएगा।

गौरतलब है की, पुराने संसद भवन को अभी 100 साल भी पूरे नहीं हुए कि उससे पहले ही भारत में एक नया संसद भवन बनकर तैयार हो जाएगा. आपको बता दें इस नए संसद भवन में लोकसभा सदस्यों के लिए 888 सीटें होंगी. वही राज्यसभा सदस्यों के लिए 326 और साथ ही 1224 सदस्यों के एक साथ बैठने की भी व्यवस्था होगी।

इसके अलावा नया संसद भवन पुरानी संसद से करीब 17 हजार वर्गमीटर बड़ा होगा इस संसद भवन को 2022 तक तैयार किया जाएगा. वही नए संसद भवन में सभी सांसदों के लिए दफ्तर भी तैयार किया जाएगा, जिसे 2024 तक बनाकर तैयार किया जाएगा।