अजीम प्रेमजी की कंपनी विप्रो का एतिहासिक क्षण, ये भारतीय इतिहास का सबसे महँगा सौदा होगा

विप्रो (Wipro) के फाउंडर अजीम प्रेमजी की विप्रो कंपनी, लंदन की एक दिग्गज कंपनी को खरीदने जा रही है, भारतीय इतिहास में इससे पहले इतनी बड़ी डील कभी नहीं हुई

मुंबई: देश के सबसे बड़े दानवीर अरबपति और आईटी सेक्टर के दिग्गज उद्योगपति विप्रो (Wipro) के संस्थापक अध्यक्ष अजीम प्रेमजी (Azim Premji) का नाम शीर्ष पर आता है। हुरून रिपोर्ट इंडिया और की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रेमजी एक दिन में 22 करोड़ रुपये और एक साल में 7904 करोड़ रुपये दान करने वाले वित्तीय वर्ष 2020 में सबसे बड़े दानवीर भारतीय बन गए हैं।

आईटी कंपनी विप्रो के फाउंडर अजीम प्रेमजी इन कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं. बता दें इससे पहले प्रेमजी ने वित्त वर्ष 2018-19 में 426 करोड़ रुपये दान में खर्च किए थे. लेकिन, इस साल उन्होंने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और भारतीय उद्यमियों की तरफ से किए गए दान को 175 फीसदी बढ़ाते हुए 12 हजार 50 करोड़ रुपये पर पहुंचा दिया है।

145 करोड़ डॉलर का यह सौदा पूरी तरह कैश में होगा.

अब हाल ही में आईटी कंपनी विप्रो के फाउंडर अजीम प्रेमजी ने और एक बड़ा ऐलान कर दिया है। दरअसल, आईटी कंपनी विप्रो ने ब्रिटेन की कंपनी खरीदने का ऐलान किया है। वैश्विक स्तर पर प्रबंधन एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र में परामर्श सेवाएं देने वाली कंपनी कैपको को 1.45 अरब डालर यानि 10,500 करोड़ रुपये में खरीद रही है।

आईटी कंपनी विप्रो द्वारा ब्रिटिश कंस्लटेंसी कंपनी कैपको का 145 करोड़ डॉलर में खरीदने का यह सौदा पूरी तरह कैश में होगा. जिसके चलते विप्रो के शेयर में लगातार उछाला देखने को मिल रहा है। लगातार चौथे दिन शेयर में तेजी दर्ज की जा रही है।

बता दें कंस्लटेंसी कंपनी कैपको का मुख्यालय लंदन में है। और भारतीय कंपनी द्वारा किसी ब्रिटिश कंपनी को खरीदने का यह पहला और सबसे बड़ा सौदा है। बता दें विप्रो द्वारा शेयर मार्किट को दी गयी सूचना में कहा है कि कैपको के आने से परामर्श और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में उसकी स्थिति को मजबूत करेगा। यह सौदा जून के अंत तक बराबर हो सकता है।

विप्रो के सीईओ-एमडी थियेरी डेलापोर्ट ने कहा कि विप्रो की क्षमता वित्तीय संस्थानों में टेक्नोलॉजी से जुड़े सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए फायदेमंद साबित होगी. गार्टनर के सीनियर डायरेक्टर एनालिस्टन डीडी मिश्रा के मुताबिक यह डील विप्रो की क्षमता को बढ़ाएगी और इसे इस दिशा में बड़े खिलाड़ी के तौर देखा जा रहा है।

लंदन स्थित कैपको 1998 की कंपनी है और इसके पास 100 से ज्यादा ग्राहक हैं हलाकि इनमें से कई ग्राहक लम्बे समय से इसके साथ जुड़े है। कंपनी में 16 देशों में स्थापित उसके 30 प्रतिष्ठानों में 5,000 कंसल्टैंट काम कर रहे हैं। इस कंपनी ने बीते साल 2020 में 72 करोड़ डालर की कमाई की थी।

आपको बता दें विप्रो के फाउंडर अजीम प्रेमजी की संपत्ति 27.7 बिलियन डॉलर है। उनका नाम दुनिया के टॉप 50 अरबपतियों की सूची में शामिल हैं। फिलहाल, अजीम प्रेमजी की रैकिंग 49वीं है।

पुणे (महाराष्ट्र) की रहने वाली 'बुशरा त्यागी' पिछले 5 वर्षों से एक Freelancer न्यूज़ लेखक (Writer) के तौर पर कार्य कर रही हैं। 16 साल की उम्र से ही इन्होंने शायरी, कहानियाँ, कविताएँ और आर्टिकल लिखना शुरू कर दिया था।