दाढ़ी रखकर राजनीति हो सकती है लेकिन पुलिस में नौकरी नहीं, सब-इंस्पेक्टर इंसार अली को एसपी ने किया सस्पेंड

उत्तर प्रदेश में योगीराज में अपरा’ध के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे है. नस्ल, जाति और धर्म के आधार पर भेदभाव के मामले में भी तेजी देखने को मिली है. ऐसा ही एक ताजा मामला यूपी के बागपत से सामने आया है जहां पर एक मुस्लिम दरोगा को सिर्फ इसीलिए संस्पेंड कर दिया गया क्योंकि उसने दाढ़ी बढ़ा ली थी. इस मामले को लेकर यूपी पुलिस प्रशासन ने इसे विभागीय नियमों की अवहेलना करना बताया है.

इसी के बाद नियमों की अनदेखी करने के चलते दाढ़ी बढ़ाने वाले एसआई को निलंबित कर दिया गया. आपको बता दें कि बागपत के रमाला थाने में तैनात एसआई इंतेसार अली ने अपने मुस्लिम धर्म के अनुसार अपनी दाढ़ी बढ़ा ली थी. मुस्लिम धर्म में दाढ़ी बढ़ाने की सीख दी गई है.

si intesar ali up

बताया जा रहा है कि विभाग की तरफ से एसआई इंतेसार अली को दाढ़ी बढ़ाने को लेकर पहले भी टोंका लगा था. लेकिन इसके बाद भी उन्होंने दाढ़ी नहीं कटवाई बल्कि दाढ़ी को और भी बढ़ने दिया.

खबरों के अनुसार बार बार की चेतावनी के बाद जब उन्होंने दाढ़ी नहीं क’टवाई को उन पर कार्रवाई करते हुए उन्हें स’स्पेंड कर दिया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बताया जा रहा है कि इंतेसार अली ने अपने विभाग से दाढ़ी बढाने के लिए से इजाजत नहीं ली थी.

जिसके बाद विभागीय अधिकारियों की इजाजत के बिना इंतेसार अली को दाढ़ी रखने पर निलंबित कर दिया गया. वहीं मीडिया से बात करते हुए अधिकारियों ने इस मामले को लेकर बताया कि विभाग की नियमावली के अनुसार धर्म अथवा सम्प्रदाय विशेष में दाढ़ी अथवा अन्य कार्यकलापों के लिए विभाग से अनुमति लेनी होती है.

उन्होंने बताया कि विभाग के उच्च पदस्थ अधिकारियों से इजाजत लेकर ही ऐसा किया जा सकता हैं. वहीं इस मसले को लेकर एसपी बागपत अभिषेक सिंह ने जनज्वार से हुई बात करते हुए बताया कि दाढ़ी रखने के लिए विभाग से अनुमति लेनी होती है.

उन्होंने आगे कहा कि लेकिन एसआई इंतेसार अली द्वारा ऐसा नहीं किया गया. जबकि उन्हें विभाग की तरह से बार-बार चेतावनी दी गई थी लेकिन इसके बावजूद भी स्थिति में सुधार नहीं किया गया जिसके चलते इंतेसार अली निलंबित कर दिया गया.

साभार- जनज्वार