योगी सरकार पर बरसी प्रियंका गांधी कहा- मैं इंदिरा गांधी की पोती हूं, अगर हिम्मत है तो…..

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने चुनौती दी है कि अगर योगी सरकार में हिम्मत हो तो उनके खिलाफ एक्शन लिया जाए पर वे सच्चाई सामने लाना जारी रखेंगी. शुक्रवार को प्रियंका गांधी ने दो ट्वीट किये जिसमें उन्होंने कहा कि जनता के एक सेवक के रूप में मेरा कर्तव्य उत्तर प्रदेश की जनता के प्रति है और वह कर्तव्य सच्चाई को उनके सामने रखने का है.

उन्होंने आगे लिखा कि मेरा कर्तव्य किसी सरकारी प्रॉपगैंडा को आगे रखना नहीं है. उत्तर प्रदेश सरकार अपने अन्य विभागों द्वारा मुझे फिजूल की धमकियां देकर अपना वक्त व्यर्थ कर रही है, जिससे कुछ नहीं होने वाला हैं.

प्रियंका गांधी ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि यूपी सरकार जो भी कार्यवाही करना चाहती हैं, बेशक करें. लेकिन मैं सच्चाई सामने रखती रहूंगी. मैं इंदिरा गांधी की पोती हूं, कुछ विपक्ष के नेताओं की तरह भारतीय जनता पार्टी की अघोषित प्रवक्ता नहीं हूँ.

दरअसल हाल ही में यूपी की योगी सरकार पर प्रियंका गांधी ने कोरोना संक्र’मण के मुद्दे को लेकर हम’ला किया था. रविवार को उन्होंने यूपी के कानपुर में शेल्टर होम में कोरोना संक्र’मि’त मिली लड़कियों के प्रेग्नेंट और एचआईवी पॉजिटिव पाए जाने के मामले को सोशल मीडिया पर जोर-शोर से उठाया था.

इतना ही नहीं इस दौरान प्रियंका ने इस मुद्दे की तुलना बिहार के मुज्जरफरपुर शेल्टर होम के’स से तक कर दी थी. बता दें कि जहां बड़ी तादात में लड़कियों के कथित यौ’न उ’त्पी’ड़न का मामला सामने आया था.

इसी को लेकर गुरुवार को राज्य के बाल अधिकार पैनल ने कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी को नोटिस जारी कर दिया. इस मामले में प्रियंका को गलत तुलना करने के लिए तीन दिन में जवाब दाखिल करने के लिए कहा गया है. इसी के बाद प्रियंका ने योगी सरकार को खुली चुनौती दे दी हैं.

आपको बता दें कि इससे पहले 22 जून को भी प्रियंका ने ट्वीट करके कहा था कि आगरा के एक हॉस्पिटल में पिछले 48 घंटों में 28 कोरोना मरीजों की मौ’त हो चुकी है. उन्होंने कहा कि योगी सरकार का आगरा मॉडल अब एक्सपोज हो चूका हैं.

उन्होंने एक न्यूज़ रिपोर्ट का भी हवाला दिया जिसमें बताया गया था कि आगरा के डीएम प्रभु नारायण सिंह ने मंगलवार को बयान जारी करके प्रियंका के दावे को गलत बताते हुए उन्हें ट्वीट डिलीट करने के लिए कहा थे. हालांकि प्रियंका यहां नहीं रुकीं और उन्होंने आगरा में उच्च मृ’त्यु दर को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ से 48 घंटे में जवाब देने की मांग की थी.

साभार- जनसत्ता