फेसबुक लाइव पर बोले डॉ कफ़ील, मैं योगी सरकार के आगे नहीं झुकूंगा, इस सरकार ने मेरे साथ खूब जुल्म किया, 5 दिन तक जेल में..

जनवरी से जेल में बंद डॉ. कफ़ील खान आखिरकार रिहा हो गए है. मथुरा जेल से मंगलवार को रिहा होने के बाद कफील खान अपने घर गोरखपुर नहीं गए. उनके परिवार ने बताया कि अगर वो अपने घर आते तो यूपी पुलिस उन पर कोई नया आरोप लगा कर उन्हें दोबारा जेल में डाल सकती हैं. इसी के चलते उन्होंने फ़िलहाल गोरखपुर नहीं जा रहे है. बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के बाल विभाग के पूर्व प्रवक्ता डॉ. कफ़ील को हाईकोर्ट के आदेश पर रिहा किया गया है.

मथुरा जेल प्रशासन ने 01-02 सितंबर की मध्य रात्रि को उन्हें रिहा किया. कफील जेल से निकलकर सीधे पड़ोसी राज्य राजस्थान चले गए. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में भड़’काऊ भाषण के आरोपों के चलते डॉ. कफील खान पर लगे राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून को ह’टा दिया हैं.

इसके साथ ही हाईकोर्ट ने कफील की तुरंत रिहाई के आदेश भी दिये लेकिन कफील के परिवार के मुताबिक जेल प्रशासन ने उन्हें देर रात तक भी रिहा नहीं किया गया. कफ़ील के परिवार के एक सदस्य ने कहा कि देर तक रिहाई न होने पर आशंका पैदा हो गई थी कि कहीं कफ़ील पर गैर-क़ानूनी गतिविधियां (निवारण) अधिनियम (यूएपीए) थोपने की तैयारी तो नहीं की जा रही है.

दरअसल इससे पहले भी कफील की रिहाई के आदेश आए थे लेकिन एन वक्त पर उन पर रासुका लगाकर रिहाई टाल दी गई थी. मथुरा जिला प्रशासन और जेल प्रशासन ने कफील को 01-02 सितंबर की मध्य रात्रि को रिहा कर दिया जहां से वो पड़ोसी राज्य राजस्थान का रुख कर लिए.

कफील के भाई ने बताया कि अभी कुछ वक्त के लिए डॉ. कफील राजस्थान में ही रहेंगे. उन्होंने बताया कि कफील राजस्थान इसलिए गए क्योंकि वो मथुरा से केवल 20 किलोमीटर दूर है. आज कफील ने राजस्थान के जयपुर से एक प्रेस कांफ्रेस भी की है.

डॉ.कफ़ील ने बुधवार को बातचीत के दौरान कहा कि वो योगी सरकार की ब’र्बर’ता के आगे किसी भी हाल में झुकेंगे नहीं और अन्याय के खिलाफ लगातार आवाज़ उठाते रहेंगे.

उन्होंने कहा कि उन्हें जेल में इतने दिनों तक इसलिए रखा गया क्योंकि वो यूपी की चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था की कमियों को उजागर कर रहे है. उन्होंने कहा कि मुझे पर कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी के चलते हुई बच्चों की मौ’त के मामले में मुझ पर लगाए गए आरोप गलत साबित हो गए थे और मुझे क्लीन चित मिल गई थी.

साभार- द वायर