अपनी जन्मभूमि यूपी नहीं जाएंगे, ‘लव जिहाद’ कानून के दुरूपयोग के चलते ये युवक-युवती ने लिया फैसला

लव जिहाद (Love jihad) के नाम पर प्रताड़ना के डर से युवक-युवती ने कहा- लौटकर यूपी नहीं जाएंगे

इन दिनों उत्तर प्रदेश की राजनीति में जो मुद्दा सबसे ज्यादा गर्माया हुआ है, वह है। ‘लव जिहाद’ उत्तर प्रदेश की योगी सरकार लगातार लव जिहाद के मामलों पर तीखी प्रतिक्रिया देती आ रही है और इस दिशा में प्रदेश सरकार ने कानून भी बनाया है जिसका खासा विरोध भी देखने को मिल रहा है। हाल ही में उत्तर प्रदेश के अंदर लव जेहाद कानून के तहत हुई पहली गिरफ्तारी को सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी थी।

वही अब एक और मामला सामने आया है जिसमें वि’वा’दित कानून की वजह से युवक और युवती को पुलिसया बर्बरता झेलनी पड़ रही है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले सिमरन और शमीम ने पुलिसिया बर्बरता के कारण शाहजहांपुर छोड़ दिया. सिमरन और शमीम 2017 में एक कोचिंग में पढ़ाई के दौरान एक दूसरे के संपर्क में आए और अब उन्होंने विवाह कर लिया है।

love jihad 24

शाहजहांपुर छोड़ने के बाद 25 साल के शमीम और 21 साल की सिमरन ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। याचिका में दोनों ने अपने परिवारवालों और उत्तरप्रदेश पुलिस से सुरक्षा की मांग की है। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक बीते शनिवार को दोनों ने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत अपनी शादी के लिए पंजीकरण किया है।

वहीं याचिका की सुनवाई करते हुए जस्टिस अनु मल्होत्रा ने कहा कि यह मांगे काल्पनिक हैं। और फिलहाल इन पर कोई आदेश नहीं दिया जा सकता। सिमरन से जब इस मामले मैं बात की गई तो सिमरन ने कहा कि ‘अगर वहां से शादी करते तो लोग लव जिहाद कह देते. हालांकि मुझ पर शादी का कोई दबाव नहीं था. लेकिन जब उन्हें पता चलता कि मैं एक मुस्लिम लड़के के साथ रह रही हूं तो वह जरूरहम दोनों को लव जेहाद के केस में फंसा देते।

आपको बता दें कि सिमरन अकाउंटेंट के रूप में काम कर चुकी हैं। उनके परिवार वालों को शमीम के साथ रिश्ते पर संदेह तो था लेकिन शाहजहांपुर छोड़ने तक वे बिल्कुल नहीं जानते थे कि सिमरन जिस लड़के के साथ है वह मुस्लिम है।

वहीं 25 साल के शमीम इंजीनियरिंग कर चुके हैं। और दिल्ली में नौकरी करते हैं। शमीम ने बताया कि उनके इस संबंध के बारे में परिवार वालों को नहीं पता है लेकिन अगर वह आ’प’त्ति करते हैं तो भी मैं सिमरन को नहीं छोडूंगा और ना ही उसे धर्म परिवर्तन करने के लिए कहूंगा।

लेकिन अब दोनों को परिवार और प्रशासन का डर सता रहा है उन्होंने कहा कि वे प्रशासन और परिवार वालों के डर से वापस नहीं लौट रहे हैं।